31.5k Members 51.9k Posts

मैं ही मैं

कोरोना ने
‘मैं’ को
नए सिरे से परिभाषित कर दिया है.
‘मैं’ ही कारक
‘मैं’ ही हन्ता
और ‘मैं’ ही नियंता को
स्थापित कर दिया है
नेपथ्य में बैठा
कोरोना परिवार का यह नया सदस्य.
‘मैं’, ‘मैं’ और केवल ‘मैं’
एकान्त के सन्नाटे को
महसूस करेगा.
और ‘मैं’ बनने की दौड़ के लिए
दण्डित भी
यही,
‘मैं’ ही होगा.
और अंततः
भय के पसरे साम्राज्य को,
‘मैं’ ही तोड़ेगा,
अस्तु,
उठो ‘मैं’
सजग हो,
तोड़ो इस ‘मैं’
के कारा को.
( 24.03.2020 )

5 Views
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
लखनऊ
67 Posts · 4k Views
विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में 1000 से अधिक लेख, कहानियां, व्यंग्य, कविताएं आदि प्रकाशित। 'कर्फ्यू में शहर'...
You may also like: