मैं हिन्दुस्तान हूँ सरदार के आज़ाद सपनो का

मेरे सीने से निकला है लहूँ अपनो के ज़ख़्मो का ,
महल कब हाल पूँछेगे घिसीं बेकार सड़को का ।

मेरी हालत बनाई है किसी अबला अभागिन सी ,
मैं हिन्दुस्तान हूँ सरदार के आज़ाद सपनो का ।

हिमालय से निकल आये किसी दिन लाडला मेरा ,
मुझे आभास होता है भगत से वीर कदमो का ।

जहाँ देखो वही अब तो इसी कुर्सी के झगड़े हैं ,
सभी मिल क़त्ल कर बैठे रिवाजों और रश्मो का ।

लगी है नाल सीने में चलाता फिर भी है तोपे ,
लहूँ बहता है सरहद पर मेरे दिलदार बच्चो का ।

हरेन्द्र सिंह कुशवाह
~~~एहसास~~~

Like Comment 0
Views 185

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing