.
Skip to content

मैं शक्ति हूँ

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

March 8, 2017

” मैं शक्ति हूँ ”
“”””””””””””

मैं दुर्गा हूँ ,
मैं काली हूँ !
मैं ममता की रखवाली हूँ !!
मैं पन्ना हूँ !
मैं हाड़ी हूँ !
मैं फूलों वाली बाड़ी हूँ !!
मैं रूकमिणी हूँ ,
मैं राधा हूँ !
मैं नर का हिस्सा आधा हूँ !!
मैं सावित्री हूँ ,
मैं सीता हूँ ,
मैं ही भगवद्ग – गीता हूँ !!
मैं पद्मिनी हूँ ,
मैं रजिया हूँ !
मैं मलय सुगन्धित बगिया हूँ !!
मैं नीर हूँ ,
मैं ज्वाला हूँ ,
मैं ही मादक प्याला हूँ  !!
मैं मधुमास हूँ ,
मैं सावन हूँ !
मैं गंगा जैसी पावन हूँ  !!
मैं चंदन हूँ ,
मैं वंदन हूँ !
मैं भारती का स्कंदन हूँ  !!
मैं गीत हूँ ,
मैं प्रीत हूँ !
मैं ही जीवन – संगीत हूँ  !!
मैं भाग्य हूँ ,
मैं प्रकृति हूँ ,
मैं खुद एक संस्कृति हूँ  !!
मैं आन हूँ ,
मैं शान हूँ !
मैं गौरव और अभिमान हूँ  !!
मैं जीवन हूँ ,
मैं मोक्ष हूँ !
मैं शक्ति एक परोक्ष हूँ  !!
मैं कर्म हूँ ,
मैं मर्म हूँ !
मैं लाज-हया और शर्म हूँ !!
मैं सद्गुण हूँ ,
मैं वादा हूँ !
मैं अखण्डित मर्यादा हूँ  !!
मैं शोला हूँ ,
मैं शबनम हूँ  !
मैं एक सुरीला सरगम हूँ  !!
मैं साज हूँ ,
मैं ताज हूँ !
मैं बिना पंख परवाज हूँ !!
मैं मिष्ठी हूँ ,
मैं दृष्टि हूँ  !
मैं प्रेम से पूर्ण वृष्टि हूँ  !!
मैं पूजा हूँ ,
मैं भक्ति हूँ  !
मैं सारभूत अभिव्यक्ति हूँ !!
मैं व्यष्टि हूँ ,
मैं समष्टि हूँ !
मैं जीवन की नव-सृष्टि हूँ  !!
मैं ज्योति हूँ ,
मैं स्वाति हूँ !
मैं ही “दीप” की बाती हूँ  !!
मैं नारी हूँ ,
मैं शक्ति हूँ !
मैं ही जीवन की तृप्ति हूँ  !!
———————
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
मैं नारी, सर्वशक्तिशाली हूँ।
???? मैं नारी, सर्वशक्तिशाली हूँ। मैं आदि शक्ति, सृष्टि को रचने वाली हूँ। मैं वेद की ऋचाएँ, गीता की अमृत वाणी हूँ। मैं भागीरथी की... Read more
तुम और मैं
???? तू शिव है, तेरी शक्ति हूँ मैं। तेरी जीवन की, हर एक भक्ति हूँ मैं। ? तेरे अंग में समायी, तेरी अर्धांगिनी हूँ मैं।... Read more
मैं संस्कार हूँ
मैं संस्कार हूँ, धर्म अधर्म समाहित मुझमें मैं ज्ञान रुपी भंडार हूँ । मैं संस्कार हूँ।। पाप पूण्य श्री गणेश हमीं से मैं जीवन तत्व... Read more