मैं लिखती हूँ

?????
मैं क्या लिखती हूँ
और क्यों लिखती हूँ
स्वयं मैं नहीं जानती
बस लिखती हूँ..
मैं लिखती हूँ..
?
अपनी प्रतिभा से
यत्र-तत्र बिखरे
सौन्दर्य को
संकलित करके
एक आनंदमयी
सृष्टि करती हूँ..
मैं लिखती हूँ..
?
मैं सत्य,शिव
और सौंदर्य की
आलौकिक रस की
वृष्टि करती हूँ..
मैं लिखती हूँ..
?
इसकी अमृत धारा में
अवगाहन कर
संसार का समस्त
ताप मिटा लेती हूँ..
मैं लिखती हूँ..
?
मानव रस के
आलौकिक आनंद में
लीन होकर अपने को
धन्य करती हूँ..
मैं लिखती हूँ..
?????-लक्ष्मी सिंह??

Like Comment 0
Views 178

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing