23.7k Members 50k Posts

मैं मान भी लू

मैं मान भी लू तुम नहीं हो मेरी
तो भी ना मानेगा यह शहर तेरा
बात हमारी जिन्दगी की है
चाहे कायम न हो अब विश्वास मेरा…

भले ही मैं कोई ना रहू तेरा
लेकिन कुछ तो अधिकार है मेरा
तुम बच भी जाओं इस दुनिया के ताने से
पर कैसे सहोगी तड़प मेरा…

अब मुझे ज़ायका जिन्दगी का देती है
तुम्हारे लब पर मेरे नाम का जो है जहर पड़ा
नज़र अब आती नहीं तुम्हारे होठो की जहर कहीं
बताओंगी जरा ऐसी मायूसी की है वजह क्या?

न मैं बदला, न बदला है घर मेरा
तुम फिर आ जाओं देखों यह
शहर तुम्हारे बिना है कैसे पड़ा।
खोया है जबसे तुमको इस शहर ने
हो गया है शहर उदास बड़ा।

5 Likes · 1 Comment · 174 Views
गौतम सिंह
गौतम सिंह
गोड्डा (झारखंड) लिखना पढ़ना शौक है।
3 Posts · 9.7k Views
दुनिया में सबसे आसान काम है जीना। जीने के लिए आपको बस सांस लेना होता...