Skip to content

मैं भी एक इंसान हूँ

Rita Singh

Rita Singh

कविता

December 9, 2016

न मैं दुर्गा , न मैं लक्ष्मी
न देवी और महान हूँ ,
नारी रूप में धरती पर
मैं भी एक इंसान हूँ ।
न अनोखी शक्ति मुझमें
न देवीत्व कोई समाया है ,
एक आम जन सा ही ईश्वर ने
मुझको भी इंसान बनाया है ।
मैं नहीं चाहती पूजी जाऊँ
क्यों देवी बनकर भोग लगाऊँ ?
बस चाहती हूँ इंसान रूप में
सभी सम्मान पुरुष सम पाऊँ।
सभी देशों में सभी धर्मों में
मानव समाज के सभी वर्गों में
कमजोर कभी न समझी जाऊँ ,
चाहत मेरी बस एक यही है
गर्भ से लेकर पूरे जीवन भर
इंसान के सारे हक मैं पाऊँ ।
न कोख में मरने का डर हो
न साँझ ढले चलने में भय हो ,
न माँ को चिंता कोई सताये
न सड़कों से कुनजर कोई आए
ऐसा सुखद समय बस आए
सब पौरुष मन पावन हो जाएँ।

डॉ रीता

Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more
Recommended Posts
न हिन्दू न मुसलमान हूँ साहब, मैं तो बस किसान हूँ साहब.! खेत सूखे है बच्चे भूखे है, ग़मो का मारा इंसान हूँ साहब,, मैं... Read more
क्या मुर्दे भी कभी कुछ सोचते हैं
ना मैं कुछ देख सकता हूँ ना सुन सकता हूँ और ना ही मैं कुछ बोल सकता हूँ मैं नहीं जानना चाहता क्या हो रहा... Read more
"मैं शिक्षक हूँ"(गज़ल/गीतिका) शिक्षक हूँ मैं मैं शिक्षा की अलख जगाता हूँ जीवन को जीने की मैं बुनियाद बनाता हूँ। बेमेल सुरों को सजा मैं... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more