.
Skip to content

” मैं पुष्प बनना चाहता हूँ “

अमित नैथानी 'मिट्ठू'

अमित नैथानी 'मिट्ठू'

अन्य

March 2, 2017

मैं पुष्प बनना चाहता हूँ,
मैं प्रकृति के रंगों में रंगना चाहता हूँ ,
सौन्दर्य का प्रतीक बनकर मैं अपनी सुन्दरता बिखेरना चाहता हूँ ,
काँटों के बीच रहकर भी मैं खिलना चाहता हूँ ,
जी हाँ , ” मैं पुष्प बनना चाहता हूँ ” ।

मैं प्रेमी युगल की पहली मुलाकात का हिस्सा बनना चाहता हूँ ,
मैं सुहागन के केशों में लिपटा हुआ गजरा बनकर,
उसकी सुन्दरता बढ़ाना चाहता हूँ ।
मांगलिक सुअवसरों पर मैं अपनी उपस्तिथि देना चाहता हूँ,
जी हाँ , ” मैं पुष्प बनना चाहता हूँ ” ।

मूर्तियों को मस्तक से चरणों तक मैं अलंकृत करना चाहता हूँ ,
हर मन्दिर हर दरगाह में समर्पण होना चाहता हूँ,
हर मजहब में मैं आस्था का प्रतीक बनना चाहता हूँ ,
मैं नफरत की भावना को प्रेम में बदलना चाहता हूँ
जी हाँ, ” मैं पुष्प बनना चाहता हूँ ” ।

मैं शिशु के जन्म पर बरसना चाहता हूँ ,
मैं वर-वधु के मिलाप का साक्षी बनना चाहता हूँ ,
अपने आशियाने में भँवरों का मधुर संगीत सुनना चाहता हूँ ,
कुचले जाने से पहले मैं किसी को सम्मानित करना चाहता हूँ ,
जी हाँ , ” मैं पुष्प बनना चाहता हूँ ।

भाष्कर की किरणों के साथ अपने दिन की शुरुआत करना चाहता हूँ ,
मैं खिलना चाहता हूँ , मैं महकना चाहता हूँ ,
जानता हूँ पुष्प बनकर कुछ दिनों का जीवन होगा मेरा,
लेकिन इन कुछ दिनों में ही मैं सबकी पसंद बनना चाहता हूँ ,
जी हाँ , ” मैं पुष्प बनना चाहता हूँ ।

– अमित नैथाणी ‘मिट्ठू’ ( अनभिज्ञ )

Author
अमित नैथानी 'मिट्ठू'
मैं अमित नैथानी (मिट्ठू) उत्तराखण्ड राज्य के जनपद पौड़ी गढ़वाल का निवासी हूँ । ठुमरी, गजल, भजन, सुनना तथा आध्यात्म विषय पर पढने और लिखने का शौक है । शैक्षिक योग्यता- उत्तराखण्ड संस्कृत विश्वविद्यालय हरिद्वार से आचार्य (M.A.) - नव्यव्याकरण... Read more
Recommended Posts
मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ
तू जाने है के मरना चाहता हूँ? मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ।। अगर है इश्क़ आतिश से गुज़रना, तो आतिश से गुज़रना चाहता हूँ।... Read more
गले का हार होना चाहता हूँ
गले का हार होना चाहता हूँ मैं उसका प्यार होना चाहता हूँ सुना है सोच में तब्दीलियाँ हैं मिज़ाजे-यार होना चाहता हूँ उसे दुन्यावी चीज़ों... Read more
"मेरी यादें" मैं फिर से बैंक कॉलोनी के अंतिम मकान में जाना चाहता हूँ... कुछ कच्चे-कुछ पक्के अमरुद और अनार तोड़ना चाहता हूँ मिटटी में... Read more
मुक्तक
तुमसे बार बार मैं बात करना चाहता हूँ! तेरी जुल्फ के तले रात करना चाहता हूँ! आती हैं हवाएं लेकर जब तेरी ख़ुशबू, फिर से... Read more