गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

मैं तो सबसे छोटा ठहरा !

*********************
मैं तो सबसे छोटा ठहरा !
*********************
*
सबको खूब खसोटा ठहरा,
सेठ तभी तो मोटा ठहरा ।
*
रहा रवैया जिसका ढुल-मुल,
बेपेंदा वह लोटा ठहरा ।
*
कविता की बारीकी मतलब,
कवि ने खुद को घोटा ठहरा ।
*
कपड़े उनके उन्हें मुबारक,
मेरा सिर्फ लंगोटा ठहरा ।
*
औरों की क्या बात करूँ मैं,
अपना सिक्का खोटा ठहरा ।
*
मेरी राय कहाँ ली जाती ?
मैं तो सबसे छोटा ठहरा ।
*
शहर तुम्हारा पढ़ा-लिखा, पर-
विद्वानों का टोटा ठहरा ।
*************************
हरीश लोहुमी, लखनऊ
*************************

53 Views
Like
You may also like:
Loading...