Skip to content

मैं जब रोता हूँ तनहा सा लिपटकर शब के सीने से

SUDESH KUMAR MEHAR

SUDESH KUMAR MEHAR

गज़ल/गीतिका

November 10, 2016

मैं जब रोता हूँ तनहा सा लिपटकर शब के सीने से .
बिखरने लगते हैं ये अश्क आँखों से करीने से .

खयालों में मिरे तुम दौड़कर मुझको बुलाती हो.
मुझे बाँहों में लेकर सीने से अपने लगाती हो.
छुपाकर मुंह दामन में सिमटने सा मैं लगता हूँ.
तिरे शाने पे रखकर सर सिसकने सा मैं लगता हूँ.
तसल्ली देती हो मुझको मुझे ढांढस बंधाती हो.
बस इक मेरी हो मुझको ये बिना बोले जताती हो.
मिरे बालों को हौले हौले से सहलाने लगती हो.
कभी थपकी सी देती हो कभी बहलाने लगती हो.
मिरे गालों पे बह आये हैं आंसू मेरी आँखों से ,
उन्हें तुम पोंछने लगती हो इन नाजुक से हाथों से.
लिपटकर तुमसे मैं यूं बेतहाशा रोने लगता हूँ,
बिखरकर हिचकियों में आंसुओं में खोने लगता हूँ.
मिरे गम से बहुत गमगीन होने लगती हो तुम भी ,
मुझे समझाती हो पर खुद ही रोने लगती हो तुम भी.

मगर ये तो हैं सब ख़्वाबों ख्यालों की फ़कत बातें.
गुजरती हैं मिरी तन्हाई में तनहा सी ये रातें.
अकेलेपन में कमरे के सिसकता अब भी रहता हूँ.
तुम्हे पाने की जिद में मैं बिखरता अब भी रहता हूँ.

यहाँ है कौन जो मुझको सदा देकर बुलायेगा .
मुहब्बत से मुझे सीने से अपने यूं लगाएगा.

ये तन्हाई ये सन्नाटे ये यादें हैं फ़क़त मुझमें .
ये उम्मीदें मिरे सपने ये बातें हैं फ़कत मुझमें .
यही तो हैं जो मुझको यूं जगाते हैं सुलाते हैं,
मिरे ही संग रोते हैं मुझे आकर रुलाते हैं.

मैं तन्हाई में रोता हूँ लिपटकर इन के सीने से .
बिखरने लगते हैं ये अश्क आँखों से करीने से

कहीं से तुम चली आतीं मुझे बरबस बुलातीं काश……
मुझे बाँहों में लेकर सीने से अपने लगातीं काश……
छुपाकर मुंह दामन में सिमटने सा मैं लगता जब
तिरे शाने पे रखकर सर सिसकने सा मैं लगता जब
तसल्ली देती यूँ मुझको मुझे ढांढस बंधातीं काश……
बस इक मेरी हो मुझको ये बिना बोले जतातीं काश….
मिरे बालों को हौले हौले से सहलाने लगतीं काश……
कभी थपकी सी देती औ कभी बहलाने लगतीं काश….
मिरे गालों पे बह आते जो आंसू मेरी आँखों से ,
उन्हें फिर पोंछने तुम लगती उन नाजुक से हाथों से.
लिपटकर तुमसे कुछ यूं बेतहाशा रोने लगता मैं,
बिखरकर हिचकियों में आंसुओं में खोने लगता मैं,
गमों से तुम मिरे कुछ यूँ भी गमगी होने लगतीं काश..,
अचानक मुझको समझाते हुये तुम भी रोने लगतीं काश……
—–सुदेश कुमार मेहर

Share this:
Author
SUDESH KUMAR MEHAR
ग़ज़ल, गीत, नज़्म, दोहे, कविता, कहानी, लेख,गीतिका लेखन. प्रकाशन‌‌--१. भूल ज़ाना तुझे आसान तो नही २--- सुनिक्षा [ग़ज़ल संग्रह ] 3---use keh to doo'n(Ghazal Sangrah)

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you