मैं गिरा इतना नहीं हूँ........

मैं गिरा इतना नहीं हूँ…….
// दिनेश एल० “जैहिंद”

2122 2122 2122 22

आज का वादा हुआ है _ मैं ना कल जाऊँगा ।
मैं भी क्या वादा तुम्हारा हूँ कि टल जाऊँगा ।।

रंग गिरगिट की तरह मौसम बदलता होगा,,
मैं गिरा इतना नहीं हूँ _ यों बदल जाऊँगा ।।

मैं तो हूँ _ अपने इरादों का _ खिलाड़ी पक्का,,
मैं ना इतना तेल-सा चिकना फिसल जाऊँगा ।।

छोड़ दे _ ये जालिम जमाना_मुझे फुसलाना,,
मैं_सरल-सीधा किशोर नहीं _बहल जाऊँगा ।।

दिल मिरा इतना_ नहीं है कायर सुनो यारो,,
शोर _ तूफ़ां का सुनूँ गर जो_ दहल जाऊँगा ।।

===≈≈≈≈≈====
दिनेश एल० “जैहिंद”
09. 01. 2018

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing