शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का

तिरंगा बन गया लेकिन लट्ठ गह सद्ज्ञान का |
इसी से ही उच्चता औ विवेकी धन ध्यान का
मिला,फहराया अमन बन,विश्व के कल्याणहित |
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का|
……………………………………………….
बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए ” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Like Comment 0
Views 106

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing