मैं खुश थी

मिट्टी का कच्चा घर बनाकर ही खुश थी,
कागज की कश्ती चलाकर ही खुश थी।
कहाँ आ गयी इस समझदारी के दौर में,
गुड्डे गुड़ियों की शादी रचाकर ही खुश थी।।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Like Comment 0
Views 11

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share