Skip to content

मैं कविता करूँ, तू हँसता रह…

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

कविता

March 1, 2017

????
मैं कविता करूँ
तू हँसता रह…..
?
मेरी कोई भी
गलती पर बेझिझक
तू टोकता रह….
?
मुद्तों से बैठकर
मुझ में मुझे
तू सुनता रह….
?
रूठ जाऊँ जो
कभी तो मुझे
तू मनाता रह….
?
थामकर हाथ मेरा
कदम – से – कदम
तू मिलाता चल….
?
तेरे शिवाय कोई
मेरा अपना नहीं
साथ देना मेरा
तू जिन्दगी भर…..
?
छोड़ कर अकेला
ना जायेगा कभी
बस मुझसे इतना
तू वादा कर…….
????—लक्ष्मी सिंह??

Share this:
Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended for you