.
Skip to content

मैं और मेरा चाँद

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

कविता

February 23, 2017

मैं और मेरा चाँद
अक्सर अँधेरी रातों में
चाय की प्यालियों में डूबकर
जागा करते हैं रात भर

कभी तोड़ते हैं खुशियों का गुल्लक
बाँट लेते हैं खुशियाँ आधी-आधी
और अश्क़ों की बारिश में कभी
भिगो देते हैं गम के तकियों को

हँसते हैं, गाते हैं और गुनगुनाते हैं
और कभी-कभी शरमाते भी हैं
बिता देते हैं हम सारी रात
यूँ ही एक दूजे की बातों में

दुश्मन बनकर सुबह की किरणें
कर देती है हम दोनों को जुदा
फिर रात मिलन का वादा लेकर
मेरा चाँद छुप जाता है कहीं बादलों में

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
भोपाल

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
मैं कभी चाँद पर नहीं आता
दिल पे कोई असर नहीं आता याद तू इस क़दर नहीं आता रात आती है दिन भी आता है कोई अपना मगर नहीं आता चाँद... Read more
उस रात
उस रात तुमने लिखा था उस रात खींचकर मेरा हाथ बना उंगली कलम से प्यार नाम तुमने फ़ासला था हममें उस रात चारों ओर नीरवता... Read more
कभी कोई कभी कोई
जलाता है बुझाता है कभी कोई कभी कोई। मेरी हस्ती मिटाता है कभी कोई कभी कोई।।1 बुरा चाहा नहीं मैनें जहाँ में तो किसी का... Read more
चाँद
चाँद ✍✍ हर रोज आसमाँ में दिखाई देता है चाँद फिर क्यों ढूँढ़ती हूँ क्यों तुझे चाँद तू पर्याय है मेरे चाँद का क्योंक अक्स... Read more