.
Skip to content

मैं और तुम

drpraveen srivastava

drpraveen srivastava

कविता

October 12, 2017

मै और तुम

तुम करुणा की मूर्तिमयी दिल ,
मै पत्थर दिल तन्हा हूँ ।
मै राह देखता लंबे पल तक
तुम सुंदर पथ की कविता हो ।
तुम ममता की दिव्य ऋचा ,
मै प्यासा रिक्त कुआं हूँ ।
तुम जीवन दर्शन दृष्टा की ,
मोह ग्रसित मै केवल मन हूँ ।
तुम हो मेरी अभिलाषा ,
मै प्रेरक संस्करण हूँ ।
मै ज्ञान का पथिक हूँ ,
तुम मेरी संरचना हो ।
तुम भावों की सकल कल्पना ,
मै कर बद्ध प्रार्थना हूँ ।
देवी !तुम करुणा की मूर्ति मयी दिल ,
मै पत्थर दिल तन्हा हूँ ।
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
—–डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव

Author
Recommended Posts
सिर्फ तुम/मंदीप
सिर्फ तुम/मंदीपसाई तारो में तुम फिजाओ में तुम हो चाँद की चादनी में तुम। ~~~~~~~~~~~~~~ ~~~~~~~~~~~~~~ बागो में हो तुम बहरों में हो तुम फूलो... Read more
मै गुनहगार हो गया हूँ - अजय कुमार मल्लाह
समझ के खिलौना तोड़ा दिल, अब मै बेकार हो गया हूँ, सज़ा मोहब्बत की मिल रही है, मै गुनहगार हो गया हूँ।, हर सितम शौक... Read more
मैं और तुम
मैं और तुम मैं प्यासा सागर तट का मैं दर्पण हूँ तेरी छाया का मैं ज्वाला हूँ तड़पन का मैं राही हूँ प्यार मे भटका... Read more
तुम ग़ज़ल शायरी //ग़ज़ल //
तुम सुबह शाम की ईबादत हो मेरी पहली,आखिरी मोहब्बत हो कोई नहीं जहां में यारा तुम सा सच में तुम इतनी खूबसूरत हो तुम्हें पाके... Read more