.
Skip to content

मैं और तुम

प्रतीक सिंह बापना

प्रतीक सिंह बापना

कविता

June 27, 2017

हम कुछ बिना सोचे समझे से हैं
तय किये बिना ही मिले से हैं

मैं और तुम दो कंधों से हैं
रोते हुए एक दूसरे को चुप कराने के लिए
कभी आराम करने को, कभी सुलाने के लिए

मैं और तुम धुंधले चित्र हैं
कुछ बताते नहीं, पर सब कुछ जताते हुए
यादें समेटे हुए हम, हंसाते रुलाते हुए

मैं और तुम जलती मोमबत्तियां हैं
जिनकी रोशनी में परछाइयां नाचती दिखती हैं
रोशन होते आशियाँ, नज़दीकियां बढ़ती दिखती हैं

तुम ही मेरे ‘अंत’ और तुम ही ‘आरम्भ’ हो
तुम मेरे ‘कभी नहीं’ और तुम ही ‘हमेशा’ हो

–प्रतीक

Author
प्रतीक सिंह बापना
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।
Recommended Posts
हम के लिये
'मैं' 'मैं' है और 'तुम' 'तुम' अतः क्योंकर भिड़ना किसी के 'मैं' से? यह जानते हुये भी कि न तो 'मैं' 'तुम' हो सकता है... Read more
बिना मेरे अधूरी तुम..
मेरा हर सुर अधूरा हैं, अधूरी गीत की हर धुन, स्वप्न वो तुम नहीं जिसमे, कभी सकता नहीं मैं बुन कोई रिश्ता नहीं तुमसे, मगर... Read more
मेरी सुबह हो तुम, मेरी शाम हो तुम! हर ग़ज़ल की मेरे, नई राग़ हो तुम! मेरी आँखों मे तुम, मेरी बातों मे तुम! बसी... Read more
मै और तुम !
ये क्या हो रहा है मुझे जब से तुम्हे देखा है दिल करता है बस तुम और मैं और हमारी कभी ना खत्म हो बाते।... Read more