.
Skip to content

मैं इश्क करने आया हूँ ।

Govind Kurmi

Govind Kurmi

शेर

December 8, 2016

इसारा कर ऐ जिंदगी, मैं कुर्बान होने आया हूँ ।

नफरत भरे दिल में, वफ़ा का तोहफ़ा लाया हूँ ।

भुला सके तो भुला मुझे, मैं गुमराह होने आया हूँ ।

पत्थरों के जमाने में, मैं शीशे का दिल लाया हूँ ।

ये एकतरफा ही सही, मैं इश्क करने आया हूँ ।

एक तेरी ही खातिर मैं, दुनिया छोड़ आया हूँ ।

मैं इश्क करने आया हूँ
मैं इश्क करने आया हूँ

Author
Govind Kurmi
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
Recommended Posts
फूल
फूल में तेरे लिए हर रोज लाया हूँ प्यार में तेरे दिवाना मैं बनाया हूँ खूबसूरत तू बहुत है इसलिये तो मैं प्रान की बाजी... Read more
मुक्तक
मैं तेरी तमन्ना को छोड़कर आया हूँ! मैं दर्द की बंदिश को तोड़कर आया हूँ! मैं भूल गया हूँ मंजिलें राह-ए-इश्क की, अश्कों के तूफान... Read more
अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं
न देखिये यूं तिरछी निगाहों से मुझे, अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं। मदहोश था अब तक उनकी आराईश में यूं, लगता था खुद... Read more
तेरे इश्क में जिये जा रहा हूँ
तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ ----------------------++++++ तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ, दुश्मनों के खंजर सहे जा रहा हूँ, तेरा... Read more