मुक्तक

🌹 🌹 🌹 🌹
मैं अंबर, चाँद, सितारा हूँ।
धरती का सुखद नजारा हूँ।
मैं फूल, हवा औ’ खुश्बू में-
मौसम का सभी इशारा हूँ।
-लक्ष्मी सिंह

Like 1 Comment 0
Views 48

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing