मेरे हिस्से का सूरज

जो ज़िन्दगी को एक दुराहे पे ला गये
बद किस्मती है हमारी कि हम उन को भा गये।

जिनके न हम कभी थे और न ही कभी हुए
नादान उन्हीं को अपने फसाने सुना गये।

मूरत थे जो फरेब की इंसानियत कहाँ
न जाने कैसे झांसे में हम उनके आ गये।

छीने उजाले सुबह के रातों की रोशनी
कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गये ।

हंगामा करके खुद को ही मशहूर खुद किया
वो वे वजह ही खासा तमाशा बना गये।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Like Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing