मेरे हमसफ़र

**** मेरे हमसफर ***
******************

सुन लो, मेरे हमसफ़र,
दिल में करते हो बसर।

ले कर हाथों में हाथ,
मिलते रहिए ,हर डगर।

जो तुम कहो,वही करूँ,
कभी ना हो अगर मगर।

हाल चाहे जो भी हो,
हर पल की हो जो खबर।

चाहे दुखों का साया,
सहता रहे सदा जिगर।

कुछ भी हो जाए कहीं,
अलग ना हो कभी नगर।

मनसीरत मन मे समाये,
प्रेम की बहती रहे लहर।
******************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

7 Views
सुखविंद्र सिंह मनसीरत कार्यरत ःःअंग्रेजी प्रवक्ता, हरियाणा शिक्षा विभाग शैक्षिक योग्यता ःःःःM.A.English,B.Ed व्यवसाय ःःअध्ययन अध्यापन...
You may also like: