मेरे सखा

मेरे सखा!

मित्र!मेरे प्यारे-प्यारे,
साथ हमेशा तू रहना |
सुख-दु:ख आए-जाए,
दो बोल स्नेह के नित कहना ||

सखा मेरे तू साबुन बनकर ,
धो देना इस मन के दाग |
पानी जैसा निर्मल बनकर,
तू हर लेना मेरा आप ||

कहीं बनूँ मैं,घोर आलसी,
तू मेरी ऊर्जा बन जाना |
घिस जाऊँ मैं कर्म के पथ में ,
तू मेरा पुर्जा बन जाना ||

मतलब का ग़र बनू सारथी,
तू मेरा घोड़ा बन जाना |
सुपथ दिखाने मेरे यारा ,
तू काजी हथौड़ा बन जाना ||

राहें बनना,मंजिल बनना ,
तू कश्ती साहिल बन जाना |
न मानूँ ग़र प्रीत मनुहार ,
तू दोषों का कातिल बन जाना ||

दु:ख भी दूँगा,दर्द भी दूँगा ,
कभी चैन से जीने न दूँगा |
मगर, सखा ! मेरे प्यारे सुन,
कष्ट का विषय पीने नहीं दूँगा ||

कभी ना छोड़ूँ तेरा हाथ ,
मैं तेरा हमराही हूँ |
सुख के मीठे आम हैं तेरे,
मैं तेरी अमराई हूँ ||

तेरे हिस्से आया गरल-ग़म ,
एक घूँट में ही पी लूँगा |
तन्हा कर दे जग मुझसे ,
मैं तेरे संग ही जी लूँगा ||

गिर जाऊँ मैं बीच राह में ,
मेरे दोस्त उठा लेना |
भटक जाऊँ जीवन की डगर तो,
सही राह पर ले चलना ||

लोक-विपद में पडूँ अकेला ,
तू बन जाना तारणहार |
मैं तेरा बनकर हमसाया ,
चलूँ खुशी से मेरे यार ||

छल-छद्मों के पास न जाना ,
मित्र -घात न करना यार |
“मौज” तेरा,तू मेरा भरोसा ,
बढ़े हमेशा ,अपना प्यार ||

विमला महरिया “मौज”

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 21

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share