Mar 19, 2021 · कविता
Reading time: 2 minutes

मेरे संघर्षों के साथी

जब जब दुविधाओं ने पांव पसारा
घोर मुसीबत मुझ पर डाला
परमपिता परमेश्वर ने कुछ
परमारथ के साथी भेजे
जिनसे मिलकर अधियाए
संकट के हर गहरे बादल
ना घर के थे वो ना बाहर के
बस परसेवा के साथी थे
ईश्वर की छाया ले मेरे जीवन में
संखनाद से प्रवृत्त हुए
कोई मणिधारी कोई चक्रधारी
त्रिनेत्र से लेकर जटा में गंगा
त्रिसंधानी बाणों से दुखों की होली का
मर्दन करते संग चल रहे।

मामा श्री विमलेश धुरंधर
जिनसे ना कोई बड़ा पुरंदर
सीधी साधी छवि है जिनकी
लोभ मोह से त्याग लिए
स्वार्थभरी इस दुनिया में
परमार्थ ही इनकी है पहचान।
अपना काम बने ना बने
पर परहित में ये लगे पड़े
नर सेवा नारायण सेवा का प्रण
दिन प्रतिदिन ये लिए पड़े।
मानवता का दूजा नाम
मामा विमलेश बहुत महान
यश अपयश हो या हानि लाभ
हर स्तर को परे हटाकर
मेरे सपनों को पूरा करने में
इनके महा हैं योगदान।
शंकर जी जैसा भोलापन
कुछ मांग लिया हो तो मिला सदा
ना मांगा हो तो भी ये रहे सदा
दिन प्रतिदिन क्या पल प्रतिपल के ये साथी हैं
चाहे वो दिन हो या झंझावत की रात
कैसी भी हो संकट की बात
मामा जी निश्चल खड़े रहे
मेरे अपनों से बढ़कर मेरे सपनों में रमकर
करुणा की गंगा लिए चले
शब्द ना पूर्णता कर पाएंगे
इनकी अंशमात्र भी पहचान।

अमरेन्द्र भाई ने अमर कर दिया
व्यवहार कुशलता की पहचान
तन मन धन सब अर्पण रहता
मानवता की खुशहाली में।
इनका हर रोयां रोयां
प्रेम और विश्वास भिगोया
इनकी अमर कहानी में
नाम हमारा सौभाग्य बड़ा।

2 Likes · 43 Views
D.o.B.- 01-07-1990 Education- M.Tech (computer science & Engg) B.Tech (computer science & Engg) M.A. (Ancient... View full profile
You may also like: