Skip to content

मेरे शुभचिंतक

Sumita R Mundhra

Sumita R Mundhra

कविता

February 17, 2017

सौ . सुमिता राजकुमार मूंधड़ा
Sumitamundhra@gmail.com

मेरे शुभचिंतक

मेरा जीवन का हर लम्हा बड़ा ही पारदर्शी है ,
और मेरे प्यारे शुभचिंतक बहुत ही दूरदर्शी है ।।
मेरे जीवन के लिए अनुमान वो लगाते रहते हैं ।
मेरे बिन मांगे ही सलाहें अपनी थमाते रहते हैं ।।
मेरे सम्मुख तो मुझ पर वो दिलोजान लगाते हैं ।
और मेरी पीठ पीछे मुझ पर वो तीर चलाते हैं ।।
सौ . सुमिता राजकुमार मूंधड़ा
Sumitamundhra@gmail.com

Share this:
Author
Sumita R Mundhra
मैं बड़ी लेखिका-कवियत्री नहीं हूँ । बचपन से ही शौक से लिखती हूँ । लंबे अंतराल के बाद हमसफ़र राज और पुत्र रिषभ के प्रेरित करने पर मेरी कलम फिर से शब्दों को पिरोने लगी है । मैं अपनी रचना... Read more
Recommended for you