.
Skip to content

*** मेरे पसंदीदा शेर ***

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

शेर

August 9, 2017

मैं मशगूल था अपने ही ख्यालों में

कब मशहूर हो गया क्या पता ।।

?मधुप बैरागी

जख़्म भरे जाते नहीं ज़ाम-ए-शराब से

नासूर बन जाते हैं ये तल्ख़-ए-जिंदगी ।।
?मधुप बैरागी

क्यों दीवारे तन्हाई खड़ी है हम दोनों के बीच

हम तो नहीं हुए थे तुमसे ख़फा कभी ।।
?मधुप बैरागी

मिल के अश्कों को यूं बहालें हम

तन्हाई में फिर रोना ना पड़े हमको ।।

?मधुप बैरागी

आज कह दो गिले-शिकवे सब हमसे

वरना शिकायते मुहब्बत ना करना कभी ।।
?मधुप बैरागी

जितना जी चाहे प्यार कर लो मुझसे

फिर तन्हाई में याद रह जायेगी मेरी ।।

?मधुप बैरागी

कलम चलती रहे मेरी रुक ना जाये कहीँ

जिंदगी यूं ही चलती रहे चूक ना हो जाये कहीँ ।।
?मधुप बैरागी

जीना चाहा था मगर जिंदगी ना मिली

मौत भी अब हमसे अपना दामन छुड़ा के चली ।।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
** अदालत-ए-इश्क **
मुवक्किल थे हम उनके अदालत-ए-इश्क में पैरवी कुछ इस तरह की हम जीती हुई बाजी हारे ।। ?मधुप बैरागी प्राणों का नहीं मोह मुझे न... Read more
*** हम प्यार महज उन्ही से करते हैं ***
हम तो इजहार-ए-मुहब्बत करते हैं हम वक्त का इंतजार नहीं करते हैं जो जमाने के खौफ़ से नहीं डरते हैं । हम प्यार महज उन्हीं... Read more
*** कुछ हसरतें ***
कुछ हसरतें कुछ ख्वाहिसें दिल में बाकि है पूरा करें तो कैसे ना शराब है ना साकी है ।। ?मधुप बैरागी हम रोज नयी कविता... Read more
***    शेर    ***
कत्ल करके पूछते हो दर्द हुआ या नहीं मुहब्बत करके देखो पता चल जायेगा।। ?मधुप बैरागी लोग तस्वीरें बदलनें में देर नहीं लगाते हैं मगर... Read more