Skip to content

,,,,मेरे दिल के अल्फाज,,,,

मानक लाल*मनु*

मानक लाल*मनु*

शेर

May 18, 2017

,,,,मेरे दिल के अल्फाज,,,,

1-कभी हम ने वक़्त को न समझा,,,,
आज वक़्त हमको नही समझ रहा,,,,
और हम है कि इल्जाम उस दिलनाज पे रहे है,,,

2-मानता हूं कि गुन्हेगार हु तेरा,,,,
मगर इतना मुँह न खोल मेरे खिलाफ राजदार भी हूँ तेरा,,,

3-तेरा होके किसी और का होने को कहा जी चाहता है,,,
ये दुनिया बहुत सोचती है कि ये मनु क्यो इसी को चाहता है,,,

4-आज तो न जाने कैसे कैसे हालत हो रहे है,,,,,
में सोने को हूँ और दोस्तो के सवालात हो रहे है,,,,

5-इतनी भी नादन और अनजान नही हूँ की आपकी धड़कन और साँसों की सरगर्मी न समझू,,,
6-बर्फ कितना कड़क हो जाये ,,,,
आखिर में पानी ही होना है पानी को,,,

8-में दूर हो नही सकता क्यों कि किरदार हूँ उसकी कहानी में,,
वो आये तो लगा कि कुछ मिला इस जिंदगानी में,,,,

9-मेरी रजा से क्या होने बाला था,,,,
इस दिल की हर जगह पर तो सिर्फ उसका ही बोलबाला था,,,,

10-बताओ तो सही तुम्हारी वो अदा कहा गयी,,,,
दरवाजे के पीछे से भी तुमने मनु को अपना बना लिया था,,,,
मानक लाल मनु,,,,
सरस्वती साहित्य परिषद,,,,,

Author
मानक लाल*मनु*
सम्प्रति••सहायक अध्यापक2003,,, शिक्षा••MA,हिंदी,राजनीति,,, जन्मतिथि 15मार्च1983 पता••9993903313 साहित्य परिसद के सदस्य के रूप में रचना पाठ,,, स्थानीय समाचार पत्रों में रचना प्रकाशित,,, सभी विधाओं में रचनाकरण, मानक लाल मनु,
Recommended Posts
मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ
तू जाने है के मरना चाहता हूँ? मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ।। अगर है इश्क़ आतिश से गुज़रना, तो आतिश से गुज़रना चाहता हूँ।... Read more
--
२१२२--११२२--११२२--२२ आयें कैसे जाने वाले भी भला लौटके आयें कैसे कशमकश ये है कि हम उनको भुलायें कैसे आज हम रूठ गये उनसे तो मुश्किल... Read more
जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया
जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया रह रह के दिल में ये सवाल आया क्या सचमुच में... Read more
मैं चाहता हूँ...(विवेक बिजनोरी)
"मेरे ख़्वाब में फ़िर यूँ आने से पहले, मुझे इस तरहा फ़िर सताने से पहले। मैं चाहता हूँ तुम भी मेरे साथ जागो यूँ रातों... Read more