Oct 1, 2020 · कविता
Reading time: 1 minute

मेरे दिल का तराना खो गया है, दुनिया से बेगाना हो गया है !!*!!

मेरे मन से बैर जो किया सजनी,
सारा जग मुझसे बैरी हो गया है !
मुझे होश नहीं, ख्याल नहीं,
तेरी बातो में है कमाल कहीं !

मेरे मन में छुपा है चेहरा तेरा,
उस पर घूँघट का पहरा तेरा !
तेरे दिल की आवाज़ों का प्यासा हूँ मैं,
बेवजह नहीं तुझमे आशा हूँ मै.. !

जब से शौक-ऐ-अदा पे पड़ी है नज़र,
दिल तेरा ही दीवाना हो गया है !
मेरे दिल का तराना खो गया है,
दुनिया से बेगाना हो गया है !!

क्यों तेरी नज़र मुझसे तकल्लुफ करें,
जबकि देखा है दुनिया से करके परे !
तुमने छोड़ा है ज़ब अकेला मुझे,
भूलाना भी मुश्किल है दिल से तुझे !

ये अदा भी है तेरी मस्तानी सनम,
मन से बैरी तो सारी कहानी ख़त्म !
कहना मुश्किल है तेरे खिलाफ ऐ सनम,
रिश्ता सदियों से पुराना हो गया है..!!
मेरे दिल का तराना खो गया है,
दुनिया से बेगाना हो गया है !!*!!
❤Love Ravi❤

2 Likes · 2 Comments · 20 Views
Copy link to share
Ravi Malviya
62 Posts · 1.6k Views
Follow 6 Followers
💖Feel The Words 💖 👉मेरी हँसी को लोग ख़ुशी समझते है... पर किसी को नहीं... View full profile
You may also like: