.
Skip to content

मेरे दिलबर तेरी सूरत ही मुझको रास आती है

मदन मोहन सक्सेना

मदन मोहन सक्सेना

गज़ल/गीतिका

October 12, 2017

जुदा हो करके के तुमसे अब ,तुम्हारी याद आती है
मेरे दिलबर तेरी सूरत ही मुझको रास आती है

कहूं कैसे मैं ये तुमसे बहुत मुश्किल गुजारा है
भरी दुनियां में बिन तेरे नहीं कोई सहारा है

मुक्कद्दर आज रूठा है और किस्मत आजमाती है
नहीं अब चैन दिल को है न मुझको नींद आती है..

कदम बहकें हैं अब मेरे ,हुआ चलना भी मुश्किल है
ये मौसम है बहारों का , रोता आज ये दिल है

ना कोई अब खबर तेरी ,ना मिलती आज पाती है
हालत देखकर मेरी ये दुनिया मुस्कराती है

बहुत मुश्किल है ये कहना किसने खेल खेला है
उधर तन्हा अकेली तुम, इधर ये दिल अकेला है

पाकर के तन्हा मुझको उदासी पास आती है
सुहानी रात मुझको अब नागिन सी डराती है

मेरे दिलबर तेरी सूरत ही मुझको रास आती है

मदन मोहन सक्सेना

Author
मदन मोहन सक्सेना
मदन मोहन सक्सेना पिता का नाम: श्री अम्बिका प्रसाद सक्सेना संपादन :1. भारतीय सांस्कृतिक समाज पत्रिका २. परमाणु पुष्प , प्रकाशित पुस्तक:१. शब्द सम्बाद (साझा काब्य संकलन)२. कबिता अनबरत 3. मेरी प्रचलित गज़लें 4. मेरी इक्याबन गजलें मेरा फेसबुक पेज... Read more
Recommended Posts
तेरी सूरत
जहाँ भी देखता हूँ , इस “जहाँ” में तेरी सूरत नज़र आती है, तेरी सूरत में इस “ जहाँ ” की सारी खुशियाँ नज़र आती... Read more
*** ये मूरत तेरी ****
ये मूरत तेरी दिल में उतर आई है तेरी सूरत पे लिखा जो ** मेरा नाम ** दिखलाई नहीं देता आँखों से दिल की नज़र... Read more
[[ दिल्लगी  उनकी  कहानी  संगदिल  भाती नही ]]
? दिल्लगी उनकी कहानी संगदिल भाती नही ,! बात आखिर क्या हुई क्यों मुझको बतलाती नही ,!! १ ?✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒? ? क्या हुई गलती मुझे कुछ... Read more
तेरी यादो का सहारा है
अब तो बस तेरी यादो का सहारा है यह दिल तेरे बिन बेसहारा ही बेसहारा है तेरी जुदाई मुझे हर पल तडपाती है जब भी... Read more