Skip to content

मेरे जज्बात

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

कविता

February 10, 2017

मेरे जज्बात
*********
जब भी देखता हूँ मैं तुझे
मेरा दिल भर आता है
कितनी खुशमिजाज है तू
कितनी खूबसूरत है तू
कितनी दिलकश है तेरी सादगी
मुझसे बेहतर कौन जानता है
चाहते तो सभी होंगे तुझे
मुझसे बेहतर कौन तुझे चाहता है
तेरी उदासी से डरता हूँ मैं
इसिलिये तुझे खुश रखता हूँ
तेरी आवाज डगमगाती है
मैं बेचैन हूँ जाता हूँ
तू मुस्कुराती है
मैं मुस्कुराता हूँ
मैं नहीं जानता
तू मुझे कितना समझती है
मुझे लगता है
मैं तेरी हर धड़कन को समझता हूँ
तू मेरी हर धड़कन में बसती हैं
यूँ तो मैं हर वक़्त सांस लेता हूँ
लेकिन बस तेरे ही साथ जीता हूँ मैं
जी लेना चाहता हूँ हर पल को तेरे संग
पा लेना चाहता हूँ हर अधूरी ख़ुशी
दे देना चाहता हूँ खुशियाँ तुझे भी
जो तुझे कभी मिली ही नहीं
मुझे पता है तू हासिल नहीं मुझे
फिर भी तुझे खोने से डरता हूँ
मेरा एहसास है तू
मेरे लिए बहुत खास है तू
एक छोर अगर मैं हूँ ज़िन्दगी का
इस डोर का दूसरा छोर है तू

“सन्दीप कुमार”

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
खफ़ा हूँ मैं
"खफ़ा हूँ मैं" ************* खफा हूँ मैं, हाँ तुझसे बहुत खफा हूँ मैं, मुझसे क्या नाराज़गी है तेरी, तू बताता क्यों नहीं, मेरे साथ जो... Read more
मैं और तुम
मैं तुझ से हूँ तु भी है मुझ से क्यूँ बीच लकीर खींच हम खड़े क्यूँ फिर रंजिश के दौर चले ज़रूरत है तुझे मेरी... Read more
तुम और मैं
???? तू शिव है, तेरी शक्ति हूँ मैं। तेरी जीवन की, हर एक भक्ति हूँ मैं। ? तेरे अंग में समायी, तेरी अर्धांगिनी हूँ मैं।... Read more
तुझे शायद पता ही नहीं
तुझे शायद पता ही नहीं किस तरह जीता हूँ तुझे मैं सुबह शाम दिन रात हर पल तेरी यादों के साये में रहता हूँ मैं... Read more