Aug 20, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

मेरे चिराग की धुंधली सी रौशनी क्यूं है

शऊरो फिक्र मे आख़िर ये बेबसी क्यूं है
उठो चिराग़ जलाओ ये तीरगी क्यूं है

तुला है सारा ज़माना सितम ज़रीफी पे
मगर हमारे लबों पर ये खामुशी क्यूं है

कहीं तो मै भी नहीं तेरे नेक बन्दों में
मेरे नसीब मे आख़िर ये मुफ़लिसी क्यूं है

कोई कमी तो नही मेरी परवरिश मे कहीं
मेरे चिराग़ की धुधली सी रौशनी क्यूं है

पहुच गया तो नही मै क़रीब मंज़िल के
मेरे ख़िलाफ ये साज़िश रची गयी क्यूं है

जब एक खून हमारी रगो में है आज़म
हमारे बीच ये नफ़रत ये दुश्मनी क्यूं है

1 Like · 1 Comment · 19 Views
Copy link to share
yaqub azam azam
10 Posts · 729 Views
You may also like: