.
Skip to content

मेरे घर को बाँट दिया

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

May 31, 2017

मेरे घर को बाँट दिया

***

मेरे घर को बाँट दिया है, धर्म के कुछ ठेकेदारो ने !
मातृभूमि से छल किया है, वतन के ही गद्दारो ने !!

नेताओ को धनाढ्य बना दिया है
बेशुमार वेतन -भत्तो के नोटों ने
राजनीति का बंटाधार किया है
लालच और नासमझी के वोटो ने
दोष किस – किस को दें यंहा पर
जब छल किया सत्ता के भुखमरों ने !

मेरे घर को बाँट दिया है, धर्म के कुछ ठेकेदारो ने !
मातृभूमि से छल किया है, वतन के ही गद्दारो ने !!

कोई लगाता चाय की दूकान
कोई खटिया पर बैठ चौपाल
जनता बन मुर्ख तमाशा देखे
गरीबो का हाल हुआ जाता बेहाल
राजनीति का ऐसा खेल रचा है
जवानों को मरवाया इन बेदर्दों ने !!

मेरे घर को बाँट दिया है, धर्म के कुछ ठेकेदारो ने !
मातृभूमि से छल किया है, वतन के ही गद्दारो ने !!

कभी कश्मीर तो कभी उत्तर प्रदेश,
कभी बिहार व बंगाल जले दंगो में
सक्षम बैठे वातानुकूलित कमरों में
बेबसों के आवास उजाड़े हुड़दंगो ने
सदियों से चली आयी यही रीत पुरानी
पीठ में खंजर घोंपे है सदा घनिष्ठ यारो ने !!

मेरे घर को बाँट दिया है, धर्म के कुछ ठेकेदारो ने !
मातृभूमि से छल किया है, वतन के ही गद्दारो ने !!

जाती धर्म का बीज बोया बैर बढ़ाने को
हवा पानी रोज़ देते तेज़ी से उपजाने को
हिन्दू-मुस्लिम जो साथ में मिल जाते
हलचल मचती सत्ता के गलियारों में
इनकी दाल रोटी का सस्ता साधन है
जिसे जमकर भुनाया है इन गदारो ने

मेरे घर को बाँट दिया है, धर्म के कुछ ठेकेदारो ने !
मातृभूमि से छल किया है, वतन के ही गद्दारो ने !!

!
!
!
डी के निवातिया

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
? मातृभूमि वंदन...
मेरे प्यारे वतन....??? ?????????? मेरे प्यारे वतन तुझको शत-शत नमन। ओ महकते चमन तुझको शत-शत नमन। मेरे प्यारे वतन..... तेरे पहरे पे हिमराज उत्तर दिशा।... Read more
नाम जवानी लिख देंगे .......डी. के. निवातियां
नाम जवानी लिख देंगे ....... हम देश प्रेमी है, अपनी जान हथेली रख देंगे वतन की रखवाली पे नाम जवानी लिख देंगे ! इस दुनिया... Read more
देश
चन्दन ओ अबीर है माटी मेरे देश की कंचन सी ज़हीर है माटी मेरे देश की गीता ओ क़ुरान जहाँ ईसा दशमेश भी ऐसी बेनज़ीर... Read more
*प्रेम रतन*
जग में कायम शान रखिए खुद से भी पहचान रखिए प्रेम रतन को बाँट - बाँट सबसे दुआ सलाम रखिए *धर्मेन्द्र अरोड़ा*