.
Skip to content

मेरे घर का पता……….(डी. के. निवातियाँ)

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

September 23, 2016

न पूछो यारो तुम मुझ से मेरे घर का पता,
अभी तो मै खुद ही के घर से अनजान हूँ !
कहने को तो ये सारा जहान मेरा अपना है,
खुद इस जिस्म में चंद सांसो का मेहमान हूँ ।I

!
!
!

डी. के. निवातियाँ_______!

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
ढलता रहता हूँ
ढलता रहता हूँ *** हर रोज़, दिन सा, ढलता रहता हूँ ! बनके दिया सा, जलता रहता हूँ !! कोई चिंगारी कहे, कोई चिराग !... Read more
नहीं पता
मुझे मंज़िल का नहीं पता मुझे रस्ते का नहीं पता चला जा रहा हूँ बस सुर एक है… मुझे जंगल का नहीं पता मुझे मंगल... Read more
खुद को है
जिन्दगी के हरेक  दंगल में......... .....................लड़ना खुद को है। .....................भिड़ना खुद को है। ......................टुटना खुद को है। ......................जुड़ना खुद को है। ये वक्त,बेवक्त माँगती हैं... Read more
क्योंकि,मैं जो हूँ स्वतः हूँ..!
क्योंकि,मैं जो हूँ स्वतः हूँ..! स्वयं रचता हूँ स्वयं पढता हूँ, आप पढ़ो तो ठीक है.. वरना खुद ही पाठक हूँ, क्योकि, मैं जो हूँ... Read more