****मेरे घर आई एक नन्ही परी****

*चाँद से, फूलों के रथ पर सवार
घर रोशन किया है
नन्हीं परी ने
ईश्वर तुझे कोटि-कोटि प्रणाम

*लक्ष्मी स्वयं चलकर
हमारे घर आई है
बरसों से जो थी
मन में आस
पूर्ण हुई आज
चाँद सी बिटिया पाई है ||

*अनमोल धन पाकर
धन्य हुआ जीवन हमारा
कन्या रूपी प्रसाद
कई सालों बाद झोली में है पाया ||

*चहक उठी आज हमारी
अँगनाई है
फूलों जैसी महक लिए
बिटिया हमारी आई है ||

*दादा-दादी की खुशी का
नहीं ठिकाना है
जब छोटी-सी बिटिया को
गोद में स्नेह से उठाया है ||

*मुख पर एक ऐसा प्रकाश
बिखर आया है
जिसने घर के कोने-कोने में
उजाला फैलाया है ||

*बार-बार कोटि-कोटि प्रणाम
हे ईश्वर तुझे
तेरी अनुकंपा से कन्या रूपी
यह प्रसाद हमने पाया है
यह प्रसाद हमने पाया है |||||

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 1.3k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share