23.7k Members 49.8k Posts

****मेरे घर आई एक नन्ही परी****

*चाँद से, फूलों के रथ पर सवार
घर रोशन किया है
नन्हीं परी ने
ईश्वर तुझे कोटि-कोटि प्रणाम

*लक्ष्मी स्वयं चलकर
हमारे घर आई है
बरसों से जो थी
मन में आस
पूर्ण हुई आज
चाँद सी बिटिया पाई है ||

*अनमोल धन पाकर
धन्य हुआ जीवन हमारा
कन्या रूपी प्रसाद
कई सालों बाद झोली में है पाया ||

*चहक उठी आज हमारी
अँगनाई है
फूलों जैसी महक लिए
बिटिया हमारी आई है ||

*दादा-दादी की खुशी का
नहीं ठिकाना है
जब छोटी-सी बिटिया को
गोद में स्नेह से उठाया है ||

*मुख पर एक ऐसा प्रकाश
बिखर आया है
जिसने घर के कोने-कोने में
उजाला फैलाया है ||

*बार-बार कोटि-कोटि प्रणाम
हे ईश्वर तुझे
तेरी अनुकंपा से कन्या रूपी
यह प्रसाद हमने पाया है
यह प्रसाद हमने पाया है |||||

Like 1 Comment 0
Views 3.9k

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
डॉ. नीरू मोहन 'वागीश्वरी'
डॉ. नीरू मोहन 'वागीश्वरी'
दिल्ली
176 Posts · 84.8k Views
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र...