मेरे गीत और ग़ज़ले उनके ही नजराने हैं

मेरी आने वाली पुस्तक,इश्क मुकम्मल,से आपकी नजर

मेरे गीत और ग़ज़ले उनके ही खजाने हैं
हम तो ख़ाक हैं इक दिन दफ़न हो जाने हैं
*******************************
दोस्तों के दिल में रहेंगे बस के उम्रभर कपिल
लफ्ज जो फिज़ाओं में गूंजते रह जाने हैं
*******************************
कपिल कुमार
12/08/2016

1 Comment · 16 Views
From Belgium
You may also like: