23.7k Members 50k Posts

मेरी माशुका की बेटी

समय कहता है
मेरा वतन मेरी असल माशुका है
और मेरी माशुका की बेटी
जो असल मे मेरी बहन है
उसे जन्म लेने दो ।
छु लेने दो तनिक
उसे भी आसमा खुला ।
ना जकड़ो उसे
तुग़लकि फरमान मे ।
ना उसके सपनों पर फेंको तेज़ाब
ना ही आधुनिकता के नाम पर तुलसी आँगन और संध्या वंदन से करो महरूम ।
जान लो उस के वजूद को
समझ लो उसके आज कल और भविष्य को ।

8 Views
Ashutosh Jadaun
Ashutosh Jadaun
36 Posts · 447 Views
स्वागत हैं मेरे जज्बात साज़ गीतों में. कभी जब मैं यूँ ही तन्हा बैठता हूँ...
You may also like: