Sep 22, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

मेरी मां

खुदा की मूरत है मेरी मां
मेरी जिंदगी की नींव है मेरी मां
मासूम है भोली है
मेरे दिल की धड़कन है मेरी मां
मुझे हर सुख देने वाली
मेरी जीवनदाता है मेरी मां
चोट यहां लगती है दर्द वहां होता है
ऐसा रिश्ता है मेरी मां
मेरा खुदा मेरी जिंदगी
मेरे जीने का वजूद है मेरी मां
मेरे जीने का वजूद है मेरी मां

“मां है तो यह संसार है
मां बेटी का रिश्ता दुनिया का सबसे अनोखा रिश्ता होता है “

3 Likes · 1 Comment · 197 Views
Manisha Bhardwaj
Manisha Bhardwaj
12 Posts · 1.4k Views
Student IB (PG) college panipat View full profile
You may also like: