.
Skip to content

मेरी माँ

सौरभ कुमार प्रजापति

सौरभ कुमार प्रजापति

कविता

March 8, 2017

♥ज़िन्दगी की तपती धूप में एक तनहा साया पाया है मैंने। जब खोली आँखें तो अपनी माँ को मुस्कुराता हुआ पाया मैंने। जब भी माँ का नाम लिया। उसका बेशुमार प्यार पाया मैंने। जब कोई दर्द महसूस हुआ,जब कोई मुश्किल आयी। अपने पहलू में अपनी माँ को पाया है मैंने । जागती रही वो रात भर मेरे लिये। जाने कितनी रातें उसे जगाया है मैंने । जिसकी दुआ से हर मुसीबत लौट जाये। ऐसा फरिश्ता पाया है मैंने ।।✨

Author
Recommended Posts
पढ़ना लिखना छोड़ दिया मैंने
--पढ़ना लिखना छोड़ा मैंने--- ___________________________ हाँ पढ़ना लिखना छोड़ दिया मैंने पढ़ें लिखों को पीछे छोड़ दिया मैंने बहुत कुछ सीख लिया मैंने बहुत पढ़ा... Read more
कितनी करूं पढ़ाई माँ
पहन गले में टाई माँ कितनी करूं पढ़ाई माँ जितना बोझा है बस्ते का, उतना मेरा वजन नहीं. होम वर्क मिलता है इतना, होता मुझसे... Read more
"प्रेम रोग मैंने पाया है" **************** मौन प्रीत का प्याला पीकर उर में प्रियवर तुम्हें बसाया। अधरों पर गीतों की सरगम बना मीत ने तुम्हें... Read more
माँ (मदर्स डे पर)
???? आम आदमी या ईश्वर अवतार, माँ के दूध का सब कर्जदार। माँ के छाती से निकला दूध, जीवनदायिनी अमृत की बूँद। ? माँ जीवन... Read more