कविता · Reading time: 1 minute

मेरी माँ

तूने ही जन्म दिया, तूने ही बनाया इन्सान
तेरी ही मेहनत है उसमे,
जो मिल पाई है, थोडी बहुत/बहुत पहचान

तेरा ही आशीर्वाद है, जो हर वक़्त साथ रहता है |
मुझे हर मुसीबत से लड़ने की ताकत,
तेरा प्यार ही दिया करता है |

तेरी ही दुअा तेरा वो हर एक बलिदान,
जिसने हमेशा मेरे चेहरे को दी है मुस्कान!

जिंदगी भी पूरी लगा दूँ तो भी समझ न पाउँगी,
तू कितनी है महान, माँ तुने ही दी हमे पहचान|

मेरी हर सांस पर तेरा हक है
तेरी इबादत करना ही अब मेरा फ़र्ज़ है |

हर पल तेरा होने का एहसास अच्छा लगता है|
जो तू साथ है तो ज़िन्दगी का सफ़र अच्छा लगता है |
अब तू नहीं तो घर भी सूना, दिल भी सूना लगता है |
सबकुछ बेकार लगता है “माँ ”

हर पल तेरा होने का एहसास अच्छा लगता है |
जो तू साथ है तो ज़िन्दगी का सफ़र अच्छा लगता है |

1 Like · 1 Comment · 75 Views
Like
23 Posts · 2.3k Views
You may also like:
Loading...