मेरी माँ

शीर्षक :- मेरी माँ
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

बहुत सरल और भोली -भाली
माँ की तो हर बात निराली ।

पापा जो कहते कर जाती ,
अपनी बुद्धि नहीं लगाती ।
जोर से कोई बात करे तो ,
घबड़ाकर नर्वस हो जाती ।

थक भी गई तो नहीं जताती ,
मुस्कान बिखेर दर्द छुपाती ।
दिनभर सारा काम करे फिर ,
लोरी गाकर मुझे सुलाती ।

करुण भाव की मूरत है वो ,
सब कहते खूबसूरत है वो ।
लक्ष्मी की अवतार मेरी माँ ,
घर में सबकी ज़रूरत है वो ।

पीड़ पराया सदा बाँटती ,
बिन गलती किये क्षमा माँगती ।
नतमस्तक वो तब भी रहती ,
जब दादी माँ , उसे डाँटती ।

हृदय से उनकी करती पूजा ,
माँ होती जैसे अर्दूजा ।
सच ही सब कहते हैं जग में ,
माँ जैसी कोई ना दूजा ।

प्रतिभा स्मृति
दरभंगा (बिहार )

Like 6 Comment 34
Views 246

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share