23.7k Members 49.9k Posts

मेरी माँ

मेरी माता मेरी भाग्य विधाता,
ईश्वर भी जिसकी महिमा गाता,

उसके चरणों में चारो धाम,
सारा जीवन उसके नाम,

मां की ममता की छाया कभी न छूटे
चाहे सारा जग क्यो न रूठे

तन मन धन से उसको पूजो
हर विपदा से खुद ही छूटो,

हे प्रभु मुझको इस लायक करना
उसकी ममता मुझमें भरना ।

।। आकाशवाणी ।।

This is a competition entry.

Competition Name: "माँ" - काव्य प्रतियोगिता

Voting for this competition is over.

Votes received: 21

Like 4 Comment 20
Views 100

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Akash Yadav
Akash Yadav
Shahjahanpur
10 Posts · 540 Views