23.7k Members 50k Posts

मेरी महबूबा मरहम मरहम सी बहती है

इस सर्द मौसम में भी गरम गरम सी बहती है
जालिमा तुम्हारी हर नज़्म तरम तरम सी बहती है

तुमनें तो ग़ज़लों नज़्मों को ग़ुलाम बना रक्खा है
तुम्हारी तारीफ़ में दिले बज़्म आफ़रीं आफ़रीं बहती है

इक तुम्हारें आ जाने से हम कुछ इस तरहा जी उट्ठे
ग़र देख लें तुम्हें जी भरके हवा भी सनम सनम सी बहती है

कोई दर्द ज़ख्म हमारा बाल भी बाँका नहीं कर सकता
इस जिस्मों जाँ में वो महबूबा मरहम मरहम सी बहती है

उसके क़रीब जाने को कभी कभी ये आँखें भर आती हैं
अफ़साने सुनाती हैं बेपनाह इश्क़ के नम नम सी बहती हैं

ये साथ हमारा उम्रभर ज़िंदा रखना ऐ ख़ुदा मेरे मौला मेरे
वो दिलरुबा हाय मरहबा रगों में जनम जनम सी बहती है

~अजय “अग्यार

1 Like · 1 View
अजय अग्यार
अजय अग्यार
159 Posts · 1.6k Views
Writer & Lyricist जन्म: 04/07/1993 जन्म स्थान नजीबाबाद(उत्तर प्रदेश) शिक्षा : एम.ए अंग्रेज़ी साहित्य मोबाइल:...