Reading time: 1 minute

मेरी भी चिंता करो, सोच रहे हैं दांत/ बना भ्रांति-लांगूट यही है जगत् की वमन

बमन कर रहा क्रोध की, उछल -उछल नौ हाथ|
मेरी भी चिंता करो, सोच रहे हैं दांत||
सोच रहे हैं दांत, नाथ पर हम शर्मिंदा|
हिंसक मेरा नाम, आदमी का दिल गंदा||
कह “नायक” कविराय, प्रीति बिन, मैला-सा मन|
बना भ्रांति-लांगूट, यही है जगत् की वमन||

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

134 Views
Copy link to share
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Pt. Brajesh Kumar Nayak
157 Posts · 41.2k Views
Follow 10 Followers
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-जागा हिंदुस्तान चाहिए "काव्य संग्रह" 2-क्रौंच सु ऋषि आलोक "खण्ड काव्य"/शोधपरक ग्रंथ... View full profile
You may also like: