.
Skip to content

** मेरी बेटी **

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

July 19, 2017

मिश्री की डली है मेरी बेटी ,
नाजों से पली है मेरी बेटी ।
हर गम से दूर है मेरी बेटी ,
पापा की परी है मेरी बेटी ।।

महकती खुशबू सी मेरी बेटी ,
चहकती चिड़ियाँ सी मेरी बेटी ।
मेरे घर की शान है मेरी बेटी ,
है सबकी लाड़ली मेरी बेटी ।।

गंगा सी पावन है मेरी बेटी ,
बहती सरिता सी है मेरी बेटी ।
चँदा सी शीतल है मेरी बेटी ,
मेरी जिंदगानी है मेरी बेटी ।।

परियों सी हूर है मेरी बेटी ,
कीमती कोहिनूर है मेरी बेटी ।
हर जद से दूर है मेरी बेटी ,
मेरा गुरुर है मेरी बेटी ।।

कोमल है कमजोर नहीं ,
मेरी मुस्कान है मेरी बेटी ।
बेटे से कम नहीं मेरी बेटी ,
मेरी जान है मेरी बेटी ।।

मेरी बेटी, हाँ मेरी बेटी !

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरे हर सुख दुःख की हमजोली है, —मेरी बेटी मेरी सबसे अच्छी सहेली है, —मेरी बेटी अपनी मीठी बातों से बहलाती है, —मेरी बेटी मेरे... Read more
तू क्या है मेरी नजर में
घर भर की जान है बेटी। मां का अरमान है बेटी । पापा का लाड दुलार है बेटी। आंगन की किलकारी है बेटी। पूजा घर... Read more
प्रस्तुत कविता मेरी बेटी के यहाँ बेटी के जन्म के कुछ दिनों के बाद आनायास ही निकली क़लम से,उसकी निश्छल मुस्कान देख कर।आप भी पढ़िये:-... Read more
बेटी है तो
घर, घर है गर घर में बेटी है बेटी है तो खेल हैं,खिलौने हैं मीठी-सी बोली है ढेर सारे सपने हैं हँसी है, ठिठोली है... Read more