Jan 17, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

मेरी बेटी – मेरा वैभव

कविता

मेरी बेटी – मेरा वैभव

– बीजेन्द्र जैमिनी

मेरी बेटी
मेरी शान
मेरी आनबान
मेरी है पहचान
मेरी बेटी – मेरा वैभव

मेरी बेटी
परिवार की शान
परिवार की आनबान
परिवार की है पहचान
मेरी बेटी – मेरा वैभव

मेरी बेटी
देश की शान
देश की आनबान
देश की है पहचान
मेरी बेटी – मेरा वैभव

Votes received: 5
1 Like · 1 Comment · 251 Views
Copy link to share
Bijender Gemini
28 Posts · 3.6k Views
Follow 1 Follower
कवि, लेखक, पत्रकार, समीक्षक पताः हिन्दी भवन, 554-सी, सैक्टर-6, पानीपत-132103, हरियाणा, भारत मो.919355003609 View full profile
You may also like: