मेरी बेटियाँ, मेरा जीवन !

वो तुतलाकर बोलना
पापा पापा , घर जल्दी आना
नटखट अदाओं से
कांधो पर लटकना
जो डांटा कभी तो ,
मुस्कुराकर मनाना ,
फरमाइशों की कतार,
और माँ जैसा श्रृंगार
बड़े हक़ से जताना अपना प्यार
मेरी चिंताओं में उसका दुलार
बड़ी होकर , मेरी बेटियां कब
उठाने लगी जिम्मेदारियां सब
कुछ करने को जो ठानी
हौसलो से लिखी ,खुद अपनी कहानी
माँ की सहेली ,
भाइयों की दुलारी
पिता का अभिमान
पिया की प्यारी
निश्छल ,सहनशील ,ममतामयी
शक्तिरूपेण और गरिमामयी
मेरी बेटियाँ
मेरा दर्पण
मेरा जीवन
उन पर अर्पण ।

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "बेटियाँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 238

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 1.1k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share