Skip to content

मेरी बेटियाँ, मेरा जीवन !

डॉ. नितेश धवन

डॉ. नितेश धवन

कविता

January 23, 2017

वो तुतलाकर बोलना
पापा पापा , घर जल्दी आना
नटखट अदाओं से
कांधो पर लटकना
जो डांटा कभी तो ,
मुस्कुराकर मनाना ,
फरमाइशों की कतार,
और माँ जैसा श्रृंगार
बड़े हक़ से जताना अपना प्यार
मेरी चिंताओं में उसका दुलार
बड़ी होकर , मेरी बेटियां कब
उठाने लगी जिम्मेदारियां सब
कुछ करने को जो ठानी
हौसलो से लिखी ,खुद अपनी कहानी
माँ की सहेली ,
भाइयों की दुलारी
पिता का अभिमान
पिया की प्यारी
निश्छल ,सहनशील ,ममतामयी
शक्तिरूपेण और गरिमामयी
मेरी बेटियाँ
मेरा दर्पण
मेरा जीवन
उन पर अर्पण ।

Share this:
Author
डॉ. नितेश धवन
समाजकार्य विषय में डॉक्टरेट तथा एम०फिल० की उपाधि , यू० जी०सी० - नेट ।" सोशल वर्क फॉर यू॰जी ॰सी॰ - नेट " शीर्षक पुस्तक मेकग्रा हिल द्वारा प्रकाशित । सोशल वर्क पर्सपेक्टिव्स : दर्शन एवं प्रणाली शीर्षक पुस्तक भारत प्रकाशन... Read more
Recommended for you