.
Skip to content

“मेरी बिटिया”

Archana Singh

Archana Singh

कविता

January 28, 2017

“मेरी बिटियाँ”

तुमको पाया जब आँचल में,
नव स्वप्न नयन पलते देखा……

वह अद्भुत सी अनुभूति थी,
जब महकीं तुम इस आँगन में।
यह ह्रदय हुआ कुसुमित-पुलकित,
नवरंग भरा इस जीवन में।

सूनी बगिया में फूलों की,
नव कोंपल को खिलते देखा।
तुमको देखा जब आँचल में,
नव स्वप्न नयन पलते देखा…..

तुम इंद्रधनुष सी खुशियों के,
हर रंग बिखेरे जाती हो।
तुम सोन चिरइया आँगन की,
सबके मन को हर्षाती हो।

तुमको चंदा की बाँह पकड़,
इन तारों पर चलते देखा।
तुमको पाया जब आँचल में,
नव स्वप्न नयन पलते देखा……

यह मोहक सी मुस्कान तेरी,
जग उजियाला कर देती है।
यह कोमल-कोमल छुअन तेरी,
हर पीड़ा को हर लेती है।

तू जागे तो ये दिन निकले,
सोये तो दिन ढलते देखा।
तुमको पाया जब आँचल में,
नव स्वप्न नयन पलते देखा……

अर्चना सिंह

Author
Archana Singh
मैं छंदबद्ध रचनाऐं मुख्यतः दोहा,कुण्डलिया और मुक्तक विधा में लिखती हूँ, मुझे प्रकृति व मानव मन में उमड़ते भावों पर लिखना पसंद है......
Recommended Posts
सनम कोई और नहीं
बहुत चाहा तुमको की चाहत पर कोई ज़ोर नहीं, हर पल मुड़कर देखा तुमको , तुम ही हो ये कोई और नहीं, मेरी नज़र ने... Read more
मेरी मां
माँ (1) जननी, माँ, प्रसू,धात्री,वत्सला,सुदर्शना ममतामयी ओस कणों सी निर्मल कोमल जीवन बगिया सरसा गयी आँखों में है नीर तेरे ,माँ त्याग है तेरे आँचल... Read more
जिंदगी........
जिंदगी। हर बार पिघलते देखा तुम को जिसने जैसे चाहा बनाया तुमको हर साँचे में ढलते देखा मैंने ✍✍✍✍✍✍ क्यों कभी तुम को किसी से... Read more
तारीफ़
तारीफ़ एक "शब्द " पर उसमें सिमटा एक रूपसी का श्रृंगार , माँ का ममतामयी रूप , एक मासूम से बच्चे की मासूमियत भरी अदाओं... Read more