Skip to content

“मेरी बिटिया, मेरी बगिया का फूल”

Neha Sharma

Neha Sharma

कविता

January 19, 2017

मेरे जीवन की सूनी बगिया में,
इक फूल खिला था प्यारा सा।
नाज़ुक सा, गुदगुदाता सा,
अपनी खुशबू से महकाता था।
मुझे ममता का अहसास करवाने वाली,
अपनी किलकारियों से सराबोर करने वाली।
मेरी प्यारी गुड़िया, प्यार से भी प्यारी,
मेरे कलेजे का टुकड़ा, मेरी राजकुमारी।
मेरे प्यार की पहली निशानी,
मेरे जीवन की कहानी।      
आज भी गुदगुदाता है वो पल मुझे,
‘मां’ पुकारा था तुमने पहली बार जिस पल मुझे।
मेरी नाज़ों की पाली, मेरी लाडो, मेरी रानी,
मेरे दिल की धड़कन, मेरी आंख का पानी।
आज फिर वो दिन आया है,
इस दिन ने फिर वो अहसास जगाया है।
मेरी ममता न्यौछावर तुझ पर,
तेरी सारी बलाएं ले लूं खुद पर।
कोई गम, कोई दु:ख न सताए तुझे कभी,
तेरा हर दर्द, हर आंसू समेट लूं अपने दामन में सभी।
खुश रहो मेरी जान, खूब फलो-फूलो तुम,
हर पल हर सू अपनी महक बिखेरो तुम।
बेइंतहा खुशियां मुंतज़िर हैं तेरी,
बहार ही बहार बाट तकती हैं तेरी।
अकेली न समझना कभी खुद को,
बाहर नहीं अपने अंदर देखो मुझ को।
महसूस करो दूर नहीं मैं पास हूं तेरे हरदम,
मैं रहूं न रहूं मेरी दुआएं रहेंगी साथ तेरे हरदम।
_____________

Author
Neha Sharma
यहां प्रस्तुत सभी रचनाएं मेरी स्वरचित मौलिक रचनाएं हैं।आशा है आप सभी को अवश्य पसंद आएंगी।
Recommended Posts
मेरे जीवन की सूनी बगिया में, इक फूल खिला था प्यारा सा। नाज़ुक सा, गुदगुदाता सा, अपनी खुशबू से महकाता था। मुझे ममता का अहसास... Read more
मेरे लाल
तेरे जोर से सिसकने भर से मेरी सांसों की डोर कमजोर सी होने लगती है तेरी एक चिल्लाहट भर से दिल की धड़कनें दौड़ती सी... Read more
समन्दर प्यार का अंदर
मेरे इन गीत गजलो में, तेरा ही चेहरा दीखता है समन्दर प्यार का अंदर, बड़ा ही गहरा दीखता है।। तेरा यू छोड़कर जाना,अकेला कर गया... Read more
||मेरी नन्ही परी ||
“नन्हे नन्हे क़दमों से अपने वो पास जो दौड़ी आती है लग गले से वो मेरे फिर किस्से सभी सुनाती है, मम्मी की डांट,दादी का... Read more