.
Skip to content

मेरी बारी

Archna Goyal

Archna Goyal

लघु कथा

April 10, 2017

शुन्य मे निहारती निभा की आखें अपने छोटे पोता पोती की याद मे सूजती जा रही है जो उससे बहुत दुर चले गए है। अपने छोटे बेटे बहु की याद मे दुखी हो रही थी।
सोचती थी मैने उसका इतना किया, मगर उसने मुझे इसका क्या सिला दिया। हर वक्त उसकी गलतियो पर पर्दा डालती रहती थी।
जब छोटी बहु उसके पास रहती थी तो निभा उसके लिए बड़ी बहु से लड़ती रहती थी। मगर उसकी छोटी बहु ने कभी उसकी इज्जत नहीं की , झड़क देती थी पल मे, वो बेचारी निभा तो डर डर के रहती थी छोटी बहु से।
अपनी जिन्दगी का हिसाब लगा रही थी वो आज।
हमने तो कभी ऐसा व्यवहार नही किया था अपनी सास से।
कैसे वो छोटी सी उम्र मे ब्याह के आई थी गॉव मे,
कोई समझ नही कोई अनुभव नही , जो सास ने बता दिया वो ही कर लिया। जो समझा दिया वो ही समझ
लिया। अपना तो जैसे कोई तर्क ही नही था उसके पास सास ननंद से डर डर के रहती थी वो। खाने मे भी देर हो जाती थी उसे लेकिन उसने कभी कोई शिकायत नहीं की थी। सबसे पहले उठना आखिर मे सोना और आखिर मे ही खाना।
फिर भी सास ननंद की तानो की टोकरी उसके सिर पर रखी होती थी। सारा दिन काम मे थक कर जब वो पलंग पर लेटती थी तब यही सोचती थी ससुराल इसे ही कहते है क्या। माँ ने तो कुछ और ही कहा था ।
बेटी वहॉ सब तुझे प्यार करेगे. तुझे रानी बना कर रखेगे। पर यहॉ तो अपनी जिन्दगी अपनी नही।
ना ही वो ये कह सकती है कि मुझे ये चिज खानी है या मुझे ये चाहिए है
जब उसके पति की इच्छा शहर मे रहने की हुई तो उसने शहर मे मकान बनवा लिया। और वो अपने पति और बच्चो के साथ शहर आ गई।
सोचा अब सुख के दिन आ जाएगे। लेकिन वक्त को कुछ और ही मंजुर था।
यहॉ आके उसका पति पीने लगा। जिससे वो और परेशान हो गई। उसका पति अब खर्चा भी कम देने लगा। बच्चो पर खर्च न कर अपने पीने खाने मे खर्च करने लगा।
निभा सोचती गॉव मे कम से कम पीते तो न थ। माँ का पुरा डर था। मगर अब यहॉ आके आजादी मिल गई। अब वो कुछ बोलती तो दोनो मे झगड़े होने लगते। झगड़े से बचती वो अब चुप ही रहने लगी। उसने तो जैसे अपने होठ सिल से लिए थे।
और काम धंधा भी खत्म हो गया।
निभा का अब हाथ तंग रहने लगा। ऐसा कई साल चला।
लेकिन जिन्दगी मे छाया अन्घेरा अब छटने लगा था।
उसके दोनो बेटे बड़े हो रहे थे। धीरे धीरे दोनो बेटो ने अपना व्यवसाय कर लिया। काम अच्छा चल पड़ा।
अब सब ठीक हो गया था पहले से। उजड़ा घर फिर से बस गया था।
बेटो के सहारे दिन कट जाएगे पर क्या पता था बहुए आकर ये दिन दिखाएगी।
बड़ी बहु आई तो साधारन सी जिन्दगी चल रही थी।
हा उनके बीच कभी कभार छोटी मोटी नोकझोक हो जाती थी, पर उनके बीच बहुत प्यार था।
ये तो हर घर मे ही होता है।
लेकिन छोटी बहु के आते ही घर का माहोल ही बदल गया। छोटी छोटी बाते बड़ा रुप धारन कर लेती थी।
बातो का मतलब गलत निकलने लगे । सबका नजरिया भी बदलने लगा।
मन मे भेद भाव ने जन्म ले लिया था। कई साल यु ही निकल गए।
एक दिन छोटी सी बात ने विकराल रुप ले लिया था।
नोबत थाने तक आ गई थी
छोटी बहु. की शर्मनाक हरकत पर वो कही मुहँ दिखाने लायक नही रहे थे। घर से निकलते वक्त ये सोचते थे कि कोई कुछ पुछेगा तो क्या जवाब देगे।
वो सोचते उसने तो हमें जेल में डलवाने की सोच ही ली थी। पर भगवान ने हमें बचा ही लिया। उनकी छोटी बेटी की सिफारिश पर वो इन झंझट से बच निकले थे। झगड़ो ने तो नाक कटवा ही दी थी। फैसले में छोटे बेटे बहु को घर व शहर छोड़ना पड़ा।
उसके छोटे बेटे का मन बिलकुल नही था घर परिवार छोड़ कर जाने का, पर पंचायत का फैसला था मानना पड़ा। सभी रो रहे थे जब वो जा रहे थे, कोई बाहर से तो कोई अन्दर से, खुश थी तो बस एक छोटी बहु जिसकी मर्जी से ये सब हुआ।
उनके जाने के बाद वो बेटे पोते पोति को याद करती रही।
सोच रही थी पहले सास से डरकर फिर पति से डर कर दिन गुजरे। अब बहुओ से डरकर दिन गुजरेगे।
हमारी तो बारी कभी आएगी ही नही।
अपनी सास की जिन्दगी से सबक लेती निभा की बड़ी बहु अभी से सर्तक रहने लगी
आज उसका पति भी अपने पिता के नक्शे कदम पर चलने को तैयार है।और देवरानी ने तो दिन्दगी का पाठ पढ़ा ही दिया था। जिसे वो अपनी सहेली समझने लगी थी वो ही उसकी दुशमन बन गई थी।
उसकी देवरानी ने उसे सबके सामने निचा दिखाने व झुठा साबित करने मे कोई कसर नही छोड़ी थी।
सबके दिलो मे एक दुसरे के प्रति नफरत भरने की पुरी कोशिश की थी। पर दिलो मे प्यार इतना भरा था कि नफरत समा ही नही सकी।
वक्त ने निभा के आँसू तो सुखा दिए। मगर उसे आज भी अपनी बारी का इंतजार है। सिले हुए होठो को आज भी खुलने का इंतजार है।
और बड़ी बहु को अपने ऊपर सास के ऐतबार का इंतजार।

Author
Archna Goyal
Recommended Posts
वो मुझमें रहती है – अजय कुमार मल्लाह
कल ख़्वाब में मिली मुझसे तो कह रही थी वो, मेरी कुछ हरकतों से आजकल नाराज़ रहती है। मेरा यूं भीगना बरसात में अच्छा नहीं... Read more
चारदीवारी
"चारदीवारी" “ तुम लोग रोज रोज इतनी देर तक कहाँ गायब रहते हो शाम के गए रात ९ बजे घर में घुस रहे हो ?... Read more
बेवजह गीतिका छल रही है मुझे
आज फिर से हवा छल रही है मुझे, महक उसकी अभी मिल रही है मुझे, दूर मेरा पिया है न जाने कहां, याद फिर क्यों... Read more
बरगला   ये   हवा  रही  है मुझे साथ  अपने  बहा  रही  है मुझे
बरगला ये हवा रही है मुझे साथ अपने बहा रही है मुझे ---------------------------------------------- ग़ज़ल क़ाफ़िया- आ, रदीफ़- रही है मुझे वज़्न-2122 1212 22/112 अरक़ान-फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन... Read more