23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

मेरी प्यारी माॅ

मेरी प्यारी माँ ———

ओ मेरी प्यारी मां मुझको जीवन का उपहार दिया ।
जाग जाग कर रात रात भर ममता और दुलार दिया ।।

कितने दुख सह कर भी तुम हर इक मुश्किल में साथ रही,
मेरे सपने अपने माने,कर सबको साकार दिया ।।

मेरे हँसने,रोने,सोने पर कितना बलिहार हुई,
मेरी इक किलकारी पर अपना सारा सुख वार दिया ।।

खून पिलाकर पाल पोस कर बचपन और जवानी दी,
सीने पर पत्थर रख कर फिर एक नया संसार दिया ।।

तेरी”ममता”मेरी पूजा ,तू मेरा भगवान है माँ,
मुझको है वरदान सरीखा माँ तूने जो प्यार दिया ।।

डाॅ0 ममता सिंह
मुरादाबाद

This is a competition entry.
Votes received: 33
Voting for this competition is over.
3 Likes · 20 Comments · 166 Views
Mamta Singh
Mamta Singh
Moradabad
5 Posts · 187 Views
Associate professor Dept of Sociology KGK College Moradabad Books: Two
You may also like: