Skip to content

मेरी प्यारी बहना

आशीष राय

आशीष राय

कविता

October 24, 2017

सीफ के मोती गले की माला सी है,मेरी प्यारी बहना।
पापा की परी माँ का गहना है,मेरी प्यारी बहना।
घर का हर कोना खुशबू से महकती है,मेरी प्यारी बहना।
हम सब का सारांश है,मेरी प्यारी बहना।
घूंघरू सी खनकती पंक्षी सी चहकती है,मेरी प्यारी बहना।
संग में खेली कूदी बडी हुई है,मेरी प्यारी बहना।
था पता एक दिन मुझे खूब रूलायेंगी,मेरी प्यारी बहना।
पर ख़ुशी है दो परिवारों को एक साथ रोशन करेगी,मेरी प्यारी बहना।
तू सदा हँसती मुस्कुराती रहे,मेरी प्यारी बहना।
ईश्वर से बस यही कामना है,मेरी प्यारी बहना।

शब्दकोष – आशीष राय
पता – जगदीश वार्ड,गाडरवारा जिला नरसिंहपुर म प्र
संपर्क सूत्र – 09009641853

Author
आशीष राय
लेखक-विवेक का आनंद एवं विवेकमय आनंद उपलब्धियां-कलचुरी रतन सम्मान नव.2014 शासकीय सम्मान जन.2015 युवा एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा यूथ आइकॉनवरी सम्मान फर.2016 सहित्य सर्जन सम्बरम्मान दिस.2016 विशेष व्यक्तित्व सम्मान रोटरी क्लब मार्च2017 शतकवीर सम्मान मंजिल ग्रुप नई-दिल्ली मार्च2017... Read more
Recommended Posts
ऐसी मेरी बहना
वो सुबह-शाम घर की जलती दीया रौशन कर रहा घर को मेरी बहना“सिया” नजाकत से सम्भाली है रिश्तों को टूटने से कभी उसने रिश्तों में... Read more
ऐसी मेरी एक बहना है
ऐसी मेरी एक बहना है नन्ही छोटी सी चुलबुल सी घर आँगन मे वो बुलबुल सी फूलो सी जिसकी मुस्कान है जिसके अस्तित्व से घर... Read more
मेरी प्यारी  बेटी
मेरी प्यारी सोना बेटी है जग से प्यारी न्यारी बेटी है तुझमे मेरी सारी दुनिया समायी तु है जग की राज दुलारी तु है लक्ष्मी... Read more
बाबुल
बाबुल की सोन चिरैया अब बिदा हो चली महकाएगी किसी और का आँगन वो नाजुक सी कली माँ की दुलारी बिटिया वो प्यारी आँसू लिए... Read more