Oct 24, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

मेरी प्यारी बहना

सीफ के मोती गले की माला सी है,मेरी प्यारी बहना।
पापा की परी माँ का गहना है,मेरी प्यारी बहना।
घर का हर कोना खुशबू से महकती है,मेरी प्यारी बहना।
हम सब का सारांश है,मेरी प्यारी बहना।
घूंघरू सी खनकती पंक्षी सी चहकती है,मेरी प्यारी बहना।
संग में खेली कूदी बडी हुई है,मेरी प्यारी बहना।
था पता एक दिन मुझे खूब रूलायेंगी,मेरी प्यारी बहना।
पर ख़ुशी है दो परिवारों को एक साथ रोशन करेगी,मेरी प्यारी बहना।
तू सदा हँसती मुस्कुराती रहे,मेरी प्यारी बहना।
ईश्वर से बस यही कामना है,मेरी प्यारी बहना।

शब्दकोष – आशीष राय
पता – जगदीश वार्ड,गाडरवारा जिला नरसिंहपुर म प्र
संपर्क सूत्र – 09009641853

971 Views
Copy link to share
लेखक-विवेक का आनंद एवं विवेकमय आनंद उपलब्धियां-कलचुरी रतन सम्मान नव.2014 शासकीय सम्मान जन.2015 युवा एवं... View full profile
You may also like: