कविता · Reading time: 1 minute

मेरी प्यारी बहना

मेरी प्यारी बहन को समर्पित यह कविता👇
“मेरी प्यारी बहना”

तू तो मेरी प्यारी बहना
तेरे आने से ज्योति जगे।
तेरे जीवन मे कभी गम ना हो
तुझे किसी की नजर ना लगे।।

अगर बहना तू रुठ जाती है
तो देखने में गुड़िया लगे।
तेरे जीवन में फूल खिलेंगे
तुझे किसी की नजर ना लगे।।

जब तू मुझे डाँटती है
तो मानो मेरी माँ लगे।
तेरे से है घर में रौनक
तुझे किसी की नजर ना लगे।।

रक्षाबंधन दिन राखी बांधे
भैया दूज माथे तिलक लगे।
तेरे से संस्कार है घर में
तुझे किसी की नजर ना लगे।।

खुद की मुझे चिन्ता नहीं
तेरी फिक्र ज्यादा लगे।
बहना रे ‘आई लव यू सो मच’
तुझे किसी की नजर ना लगे।।

(कुमार अनु ओझा)

1 Like · 423 Views
Like
Author
16 Posts · 9.4k Views
प्रिय मित्र, मैं बिहार के पावन धरती के आरा जिला से हूँ। निवास पटना में है। छोटा प्रयास लेखनी का होते रहता है और साथ ही साथ पठन पाठन भी।
You may also like:
Loading...